Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/anushkaacademy/public_html/library/database.php on line 4
DR. ANUSHKA VIDHI MAHAVIDYALAYA - LAW COLLEGE UDAIPUR, RAJASTHAN, INDIA
Latest Result

Current updates (IN HINDI) of 21 July 2016

निर्देश-नीचे दिए गए गधांश को ध्यानपूर्वक पढि़ए और उस पर आधारित प्रश्नों के उत्तर दीजिए।

कुछ शब्दों को मोटे अक्षरों में मुद्रित किया गया है, जिससे आपको कुछ प्रश्नों के उत्तर देने मेंसहायता मिलेगी। दिए

 गए विकल्पों में से सबसे उपयुक्त का चयन कीजिए।

वैसे तो भारतीय साहित्य में ऋग्वेद से ही अनेक सुन्दर प्रेमाख्यान उपलब्ध होने लगते हैं| किन्तुइसकी अखण्ड पर

म्परा का सूत्रपात महाभारत से होता है। इसका मूल कारण कदाचित यह है किमहाभारत काल से पूर्व जहां भारतीय

समाज में अति मर्यादावादी दृषिटकोण की प्रमुखता दिखार्इ पड़तीहै, वहां महाभारतीय समाज में हम स्वच्छन्द प्रण

य-

भावना का उन्मीलन और विकास देखते हैं।महाभारत में वर्णित विभिन्न प्रसंगों से स्पष्ट है कि उस युग में प्रणय

के क्षेत्र में जाति, कुल, वर्ण वलोक-

मर्यादा का विचार बहुत कुछ शिथिल हो गया था। सौन्दर्य की प्रेरणा से ही प्रेम और विवाह-

सम्बन्ध स्थापित होने लगे थे। प्रेम और विवाह के क्षेत्र में आर्य-

अनार्य का भेद भी लुप्त हो गया था।इसीलिए भीम असुर-कन्या हिडिम्बा से, अर्जुन नाग-

कन्या चित्रांगदा से, कृष्ण ऋक्ष-कन्या जाम्बवतीसे विवाह कर लेते हैं।

प्रणय-

स्वपनों की पूर्ति के लिए सामाजिक मर्यादाओं का उल्लंघन नायिका का बलात अपहरण वनायिका के संरक्षकों से यु

द्ध भी अनुचित नहीं माना जाता था। कृष्ण द्वारा रूकिमणी का तथा अर्जुनद्वारा सुभद्रा का अपहरण तथा भीम-

हिडिम्बा, प्रदयुम्न-प्रभावती, अनिरूद्ध-

उषा, प्रसंगों में नायिका केसंरक्षकों से युद्ध इसी को प्रमाणित करता है। ऐसी सिथति में यदि महाभारत से ही स्वच्

छन्दप्रेमाख्यानों या रोमांस-

साहित्य का प्रवर्तन माना जाए, तो यह अनुचित न होगा। महाभारत में समाविष्टप्रासंगिक उपाख्यानों में सर्वाधिक

 महत्वपूर्ण नल-

दमयन्ती उपाख्यान है जिसमें स्वच्छन्द प्रेम यारोमांस की वे सभी प्रवृत्तियां उपलब्ध होती हैं, जो परवर्ती प्रमाख्या

नक उपाख्यानों में भी बराबरप्रचलित रही हैं, यथा-नायक-

नायिका वे अप्रत्यक्ष परिचय से ही प्रेम की उत्पत्ति, हंस द्वारा संदेशों काआदान-प्रदान, नायक-

नायिका के मिलन में अनेक बाधाओं की उपसिथति, परिस्थितिवश नायक-

नायिका का विच्छेद एवं पुनर्मिलन, अस्तु महाभारत यदि प्रेमाख्यानों की आधारभूमि है, तो नल-

दमयन्ती उपाख्यान उसका सर्वाधिक आकर्षक केन्द्र-बिन्दु है।

1.उपर्यक्त अवतरण का सर्वाधिक उपयुक्त शीर्षक है-

(Aa) ऋग्वेद तथा महाभारत

(ii) प्रेम कथाओं की निरर्थकता

(iii) प्रणय और युद्ध

(iv) प्रेमाख्यान परम्परा और सूत्रपात

(v) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 4

2. प्रणय और परिणय-सम्बन्धों के विषय में महाभारत के कर्इ प्रसंग इस ओर संकेत करते हैं कि उसकाल में-

(i) युद्ध के बिना कोर्इ प्रेम-विवाह सार्थक नहीं होता था

(ii) प्रेम और विवाह के क्षेत्र आर्य-अनार्य का भेद लुप्त हो रहा था।

(iii) प्रेम में व्याभिचार के लिए स्थान नहीं था

(iv) प्रणय-स्वपनों के पूर्ति सम्भव नहीं थी।

(v) इनमें से कोर्इ नहीं      

उत्तर :- 2

3. हमारे साहित्य की प्राचीनतम रोमाणिटक रचना उपलब्ध है-

(i) उपनिषदों में

(ii) ऋग्वेद में

(iii) महाभारत में

(iv) पे्रमाख्यानक सूफी काव्य में

(v) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 3

4. महाभारत-काल से पूर्व भारतीय समाज में किस दृषिटकोण की प्रमुखता दिखार्इ पड़ती है?

(i) मर्यादित

(ii) सौम्य

(iii) अतिमर्यादित

(iv) सौन्दर्य-प्रधान

(v) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 3

5. प्रदयुम्न-प्रभावती प्रसंग और अनिरूद्ध-उषा प्रसंग में समानता है-

(i) उनके ऋग्वेद से सम्बद्ध होने से

(ii) उनके सर्वाधिक निकृष्ट प्रासंगिक उपाख्यान होने से

(iii) उनके सर्वाधिक आकर्षक प्रमाख्यान होने में

(iv) उनकी नायिकाओं के संरक्षकों से युद्ध होने से

(v) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 4

निर्देश(6-10) निम्नलिखित में से कौन-सा शब्द-

वाक्यांश गधांश में मोटे अक्षरों में लिखे गएशब्दवाक्यांश का समानार्थी है?

6. अखण्ड

(1)गहरा खडड               (2) अविभाजित

(3) अविकसित              (4) निर्विकार               

(5) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 2

7.प्रणय

(1) परिहार                  (2) परिसर्ग

(3) प्रेम                     (4) प्रणव                   

(5) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 3

8. प्रेमाख्यान का सूत्रपात माना जाता है

(1) ऋग्वेद से               (2) अथर्ववेद से

(3) महाभारत से            (4) रामायण से             

(5) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 1

9. नायक-नायिका का विच्छेद एवं पुनर्मिलन उदाहरण है

(1) भीम-हिडिम्बा के मिलन से

(2) अर्जुन-चित्रांगदा के मिलन से

(3) कृष्ण-जाम्बवती के मिलन से

(4) नल-दमयन्ती के मिलन से

(5) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 4

10. समाविष्ट

(1) समाहार                           (2) समाधान

(3) समाहित                          (4) सस्वर                 

(5) इनमें से कोर्इ नहीं

उत्तर :- 3

निर्देश(11 –1 5)  : निम्नलिखित पांच में से चार समानार्थी शब्द हैं। जिस क्रमांक में इनसे भिन्न शब्द

दिया गया है, वही आपका उत्तर है।

11.(1) प्रभा  (2) पुहुप

(3) द्युति   (4)आभा

(5) रुचि

उत्तर :- 3

12.(1) अगम्या (2) मनीषा

(3) धी    (4) प्रज्ञा

(5) मति

उत्तर :- 3

13.(1) अनुराग (2) नेह

(3) प्रणय   (4) राग

(5) लाडली

उत्तर :- 4

14.(1) पादप  (2) गाछ

(3) तरु  (4) महि  

(5) तरुवर

उत्तर :- 4

15.(1) व्याल  (2) काकोदर

(3) आहव (4) फणी

(5)अहि

उत्तर :- 3

निर्देश(16 – 20 ) नीचे दिए गए प्रत्येक में एक रिक्त स्थान छुटा हुआ है और उसके पांच शब्द सुझाए

गए हैं। इनमे से काई एक उस रिक्त स्थानपर रख देने से वह वाक्य एक अर्थपूर्ण वाक्य बन जाता हैं।

सही शब्द ज्ञातकर उसके क्रमांक को उत्तर के रूप में अंकित कीजिए| दिए गए शब्दों में सर्वधिक् उपयुक्त

का चयन करना है।

16.न मैं किसी की उपेक्षा करता हूँ न किसी प्रकार की ………………………।

(1) उम्मीद (2)इच्छा

(3) अपेक्षा (4) लालसा

(5) इनमें से कोई नहीं

उत्तर :- 3

17.जिसकी ....... गाती है उसका विनाश निश्चित है।

(1) व्युत्पत्ति  (2) निष्पत्ति

(3) संपत्ति     (4) उत्पत्ति

(5) इनमें से कोई नहीं

उत्तर :- 4

18.उत्कर्ष और ………………….जीवन कै अनिवार्य अंग है।

(1) विकर्ष   (2) विमर्श

(3) संघर्ष  (4) अपकर्ष

(5) इनमें से कोई नहीं

उत्तर :- 4

19.ब्रहा सत् चित् …………  स्वरूप है।

(1) ज्ञान  (2) आनंद

(3) सुख  (4) शिव

(5)इनमें से कोई नहीं

उत्तर :- 2

20.कफ और पित ………..  के बिना पंगु हैं।

(1) बात  (2) शांत

(3) मात  (4) वात

(5) इनमें से कोई नहीं

उत्तर :- 4

निर्देश(31-3 5) नीचे दिया गया हर वाक्य चार भागों में बांटा गया है और जिन्हें (1), (2),

(3) और (4) क्रमांक दिए गए हैं। आपको वाक्य के किसी भाग में व्याकारण, भाषा, वर्तनी, शब्दों के गलत

प्रयोग या इसी तरह की कोई त्रुटि ज्ञात करनी है। त्रुटि अगर होगी तो वाक्य के किसी एक भाग में ही

होगी। उस भाग का क्रमांक ही आपका उत्तर है। अगर वाक्य त्रुटिरहित है तो उत्तर (5) दीजिए।

31. यह विडंबना ही है कि आज भी (1)उच्चशिक्षा प्राप्त करने के बाद (2)मेधावी छात्र विदेशों

जाकर (3) /रोजी-रोटी कमाना चाहते हैं (4)त्रुटिरहित (5)

उत्तर :- 3

32. वक्त की सलाखें इतनी(1)/ नाजुक नहीं होती कि (2)/ घड़ी की मामूली सी (3)/सूईयाँ उन्हें तोड़

सकें। (4)

त्रुटिरहित (5)

उत्तर :- 5

33. समाज में एक वैज्ञानिक (1)/समझ विकसित करने के लिए (2)/सरकार ने कोई कभी ठोस कार्य (3)/योजना

विकसित नहीं की (4)/ त्रुटिरहित (5)

उत्तर :- 3

34. कुछ पक्षी ऐसे होते (1)/ है कि यदि उन्हें परेशान न (2) किया जाए तो वे घंटों चुपचाप (3)/पेड़ में दुबके

घिरे

रहते हैं (4)/ त्रुटिरहित (5)

उत्तर :- 4

35 . एक तरफ देश के भंडारी (1)/खाद्यानों से भरेहुए है (2)/और दूसरी तरफ लोग (3)/भूखसे मर रहे है।(4)

त्रुटिरहित (5)

उत्तर :- 1

निदेश (36 - 40) नीचे कुछ वाक्य या शब्द समूह दिए गए हैं और उसके बाद पांच ऐसे शब्द दिए गए हैं

जो एक ही शब्द में वाक्यांश का या उस शब्द समूह का अर्थ प्रकट करते है। आपको पता लगाना है कि

वह शब्द कौन-सा है जो वाक्यांश का सही अर्थप्रकट करता है। उस विकल्प की संख्या ही आपका उत्तर

है।

36.एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाना या ले जाना

(1) खिसका हुआ     

(2) उखड़ा हुआ  

(3) स्थानच्युत

(4) विस्थापित   

(5) स्थानांतरित

उत्तर :- 5

37.इंद्रियों को जीतने वाला

(1) अजातशत्रु       

(2)इन्द्रस्वामी   

(3)जितेंद्रीय     

(4)मुमुक्षु       

(5) साधु

उत्तर :- 3

38.एक ही कोख से जन्म लेने वाला

(1)संतति          

(2)जातक       

(3)आत्मज     

(4)सहोदर      

(5)बच्चा

उत्तर :- 4

39.अपनी इच्छा से चलने वाला

(1)स्वेच्छाचारी      

(2)स्वच्छंद     

(3)अराजक      

(4)स्वेच्छक     

(5)इच्छाधारी

उत्तर :- 1

40.जो हर हाल में हो ही जाए

(1)होनहार          

(2)अवशयंभावी  

(3)भाग        

(4) तत्पर      

(5)त्वरित

उत्तर :- 2

 

Join Today For Sure Success.....

No. 1 Coaching Institute of Rajasthan, Udaipur 

Anushka Academy

Shubhash Nagar Branch   : - 8233223322, 8233033033

Shobhagpura Branch         :-  7727867730, 9521516171

Sector 14 Branch                : - 9521314152, 9521314152

 


Gallery